तो इस कारण से हुआ था श्री कृष्णा एवं यदुवंश का अंत

736
Mahabharata War

महाभारत का युद्ध कुल अठारह दिन चला इस युद्ध में भयंकर रक्तपात हुआ सत्य की असत्य पर विजय हुई। इस युद्ध में कौरवों के समस्त कुल का नाश हुआ, साथ ही पाँचों पांडवों को छोड़कर पांडव कुल के अधिकाँश लोग मारे गए। लेकिन इस युद्ध के कारण, युद्ध के बाद एक और वंश का समापन हो गया वो था ‘भगवान श्री कृष्ण जी का यदुवंश’।

Mahabharata War
दरअसल जब महाभारत का युद्ध समाप्त हुआ तो उसके बाद युधिष्ठर का राजतिलक किया गया, उस समय कौरवो की माता गांधारी ने महाभारत युद्ध के लिए श्रीकृष्ण को दोषी ठहराते हुए श्राप दिया कि जिस से प्रकार कौरवों के वंश का समूल नाश हो गया है ठीक उसी प्रकार यदुवंश का भी नाश हो जायेगा.

Gandhari

इस के पश्चात् श्रीकृष्णजी द्वारिका लौट गये और वहां से यदुवंशियों को लेकर प्रयाग क्षेत्र में चले गये थे. प्रयाग यदुवंशी अपने साथ अन्न-भंडार भी ले गये थे. जैसा की गांधारी के श्राप के कारण कृष्ण जी का मृत्यु की जानकारी थी तो उन्होंने ब्राह्मणों को अन्नदान देकर यदुवंशियों को मृत्यु का इंतजार करने को कहा. इसी बीच कुछ दिनों के बाद महाभारत-युद्ध की चर्चा करते हुए सात्यकि और कृतवर्मा में विवाद उत्पन्न हो गया और क्रोधित होकर सात्यकि ने कृतवर्मा का सिर काट दिया. इस कारण यदुवंशियो में आपस में ही युद्ध भड़क उठा और वे सभी समूहों में विभाजित हो गये और एक-दूसरे का ही संहार करने लगे. इस भीषण नरसंहार में श्रीकृष्णजी के पुत्र प्रद्युम्न और उनके मित्र सात्यकि समेत सभी यदुवंशी मारे गये.

Yaduwansh

अंत में केवल बब्रु और दारूक ही बचे थे. यदुवंश के सम्पूर्ण नाश के पश्चात श्रीकृष्ण के बड़े भाई बलराम जी भी समुद्र तट पर एकाग्रचित्त होकर बैठ गए. बलरामजी शेषनाग के अवतार थे तो वो प्राण त्याग कर और स्वधाम लौट गए.

Shri Krishna Last Moment

उसके बाद श्रीकृष्ण जी जब एक दिन पीपल के पेड़ के नीचे ध्यान मग्न बैठे हुए थे, तभी उस क्षेत्र में एक बहेलिया आया हुआ था जिसका नाम जरा था. जरा शिकार करने के लिए आया था. और वह हिरण का शिकार करने वाला था उसे दूर से श्री कृष्ण का तलवा हिरण के मुख के समान दिखाई दिया. और उसने बिना कुछ सोचे एक तीर मार दिया जो कृष्ण के श्रीकृष्ण के तलवे में जाकर लग गया और बहेलिये में पास में आकर देखा की उसने भूल वश तीर कृष्ण के पैर में मार दिया है. इसके बाद वह बहुत ही दुखी हुआ और उसने श्री कृष्ण से क्षमा भी मांगी. तब श्री कृष्ण को आशीर्वाद दिया और कहा की तुम्हे स्वर्ग की प्राप्ति होगी क्योकि तुमने मेरी इच्छा का कार्य किया है.

Shri Krishna

जब बहेलिया वहां से चला गया तो उस जगह श्रीकृष्ण का सारथी दारुक पहुंच गया. श्री कृष्ण ने दारुक को कहा की तुम द्वारिका जाकर सभी को सुचना दे देना की यदुवंश का नाश हो चूका है. और श्री कृष्ण भी बलराम के साथ निजधाम लौट गये है. श्री कृष्ण ने द्वारिका को छोड़ने के लिए कहा था क्योकि उसके बाद द्वारिका जल मग्न होने वाली थी. उन्होंने अपने माता-पिता और सभी को इन्द्रप्रस्थ जाने के लिए कहा. यह संदेश लेकर दारुक द्वारका चले गए. इसके बाद वहा पर सभी देवता और स्वर्ग की अप्सराएं, यक्ष, किन्नर, गंधर्व आदि आए और उन्होंने श्रीकृष्ण की स्तुति की. समस्त देवो की आराधना के बाद श्रीकृष्ण ने अपने नेत्र बंद कर लिए और वे सशरीर अपने धाम को लौट गए, जरा बहेलिये के बारें में ऐसा कहा जाता है की जब प्रभु ने त्रेतायुग में राम के रूप में अवतार लेकर बाली को छुपकर तीर मारा था. इसी के कारण कृष्णावतार के समय भगवान ने बाली को जरा नामक बहेलिया बनाया और अपने लिए वैसी ही मृत्यु स्वीकारी, जैसी बाली को दी थी..

ramayana

श्रीमद भागवत के अनुसार जब द्वारका में उनके माता-पिता और प्रियजन को इस बात की सुचना मिली की श्री कृष्ण और बलराम ने भी अपने प्राण त्याग दिए है और स्वधाम चले गये है. तो देवकी, रोहिणी, वसुदेव, बलरामजी की पत्नियां, श्रीकृष्ण की पटरानियां आदि सभी ने भी शरीर का त्याग दिए.

krishna with gopas

इसके बाद अर्जुन ने यदुवंश के निमित्त पिण्डदान और श्राद्ध आदि सभी संस्कार पूर्ण किए.पिंडदान और श्राद्ध के बाद अर्जुन यदुवंश के बचे हुए लोगों को लेकर इंद्रप्रस्थ लौट गए.

pandav heaven

और उसके बाद श्रीकृष्ण के निवास स्थान को छोड़कर शेष द्वारिका समुद्र के पानी से डूब गई. जब पांड्वो को श्रीकृष्ण के स्वधाम लौटने की सूचना मिली तो वे भी हिमालय की ओर चल दिए और यात्रा के दौरान ही सभी पांडव ने एक-एक करके अपने शरीर का त्याग कर दिया. अंत में केवल युधिष्ठिर ही सशरीर स्वर्ग पहुंचे थे.

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here