Home साहित्य गीत दूध में दरार पड़ गई

दूध में दरार पड़ गई

दूध में दरार पड़ गई – Atal Bihari Vajpayee Poem mp3 download

https://www.gyangoon.co.in/wp-content/uploads/2018/12/Atal-Bihari-Vajpayee-Doodh-Me-Darar-Pad-Gai.mp3?_=1

दूध में दरार पड़ गई

खून क्यों सफेद हो गया?
भेद में अभेद खो गया.
बंट गये शहीद, गीत कट गए,
कलेजे में कटार दड़ गई.
दूध में दरार पड़ गई.

खेतों में बारूदी गंध,
टूट गये नानक के छंद
सतलुज सहम उठी, व्यथित सी बितस्ता है.
वसंत से बहार झड़ गई
दूध में दरार पड़ गई.

अपनी ही छाया से बैर,
गले लगने लगे हैं ग़ैर,
ख़ुदकुशी का रास्ता, तुम्हें वतन का वास्ता.
बात बनाएं, बिगड़ गई.
दूध में दरार पड़ गई.


अटल जी की अमर कविताएँ

–> अटल बिहारी वाजपेयी: काल के कपाल पे लिखता मिटाता हूं.. गीत नया गाता हूं’

–> पंद्रह अगस्त का दिन कहता – आज़ादी अभी अधूरी है।

–> मस्तक नहीं झुकने दूंगा

–> मनाली मत जइयो

मित्रों आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके अवश्य बताएं. और हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को जरूर लाइक करें जय हिन्द

1 Comment

Leave a Reply to मस्तक नहीं झुकने दूंगा - ज्ञान-गुण Cancel reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version