Mukta Ho gagan sada-मुक्त हो गगन सदा

312
Mukta ho gagan sada mp3

Mukta Ho Gagan Sada-मुक्त हो गगन सदा


Mukta Ho Gagan Sada Mp3-मुक्त हो गगन सदा


मुक्त हो गगन सदा स्वर्ग सी बने मही।
संघ साधना यही राष्ट्र अर्चना यही॥

व्यक्ती व्यक्ती को जुटा दिव्य सम्पदा बढा
देशभक्ती ज्वार ला लोकशक्ति आ रही।
है स्वतंत्रता यही पूर्ण क्रान्ति है सही ॥ संघ साधना ॥१॥

भरत भूमि हिन्दु भू धर्म भूमि मोक्ष भू
अर्थ-काम सिद्घि भू विश्व में प्रथम रही
संगठित प्रयत्न से हो पुनः प्रथम वही ॥ संघ साधना ॥२॥

जाति मत उपासना प्रांत देश बोलियाँ
विविधता में एकता-राष्ट्र-मालिका बनी।
सैकड़ों सलिलि मिला गंग-धार ज्यों बही॥ संघ साधना ॥३॥

दीनता अभाव का स्वार्थ के स्वभाव का
क्षुद्र भेद भाव का लेश भी रहे नहीं।
मित्र विश्व हो सभी द्वेष-क्लेश हो नहीं॥ संघ साधना ॥४॥

नगर ग्राम बढ़ चलें प्रगति पंथ चढ़ चलें
सब समाज साथ लें कार्य-लक्ष्य एक ही।
माँ बुला रही हमें आरती बुला रही ॥ संघ साधना ॥५॥


मित्रों आपको यह गीत कैसा लगा हमें कमेंट करके अवश्य बताएं. और हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को जरूर लाइक करें एवं ट्विटर पर फॉलो करें 🙂

अटल जी की अमर कविताएँ (ATAL BIHARI VAJPAYEE POEM MP3 DOWNLOAD)

–> अटल बिहारी वाजपेयी: काल के कपाल पे लिखता मिटाता हूं.. गीत नया गाता हूं’

–> पंद्रह अगस्त का दिन कहता – आज़ादी अभी अधूरी है।

–> मस्तक नहीं झुकने दूंगा

–> दूध में दरार पड़ गई.

–> मनाली मत जइयो

Leave a Reply