संघ गीत: सद्गुण धारें, नित्य विचारें

349

संघ गीत: सद्गुण धारें, नित्य विचारें


सद्गुण धारें, नित्य विचारें Mp3


सद्गुण धारें, नित्य विचारें, हम सब भारत की संतान
प्रगटायें कर्तव्य महान ||ध्रु||

इसी भूमि पर ऋषि मुनियों ने, दर्शाया सृष्टि विज्ञान
धरती का मर्यादित दोहन, पायेंगे सब अमृतपान
कण-कण में चैतन्य प्रवाहित, सुन्दर जीवन यज्ञ विधान ||१||

इसी भूमि में धर्म अधिष्ठित, विकसा भारत प्रज्ञावान
अर्थ काम के संयम द्वारा, सभी दिशा जीवन उत्थान
नये-नये परुषार्थ करेंगे, मुख पर हो दैविक मुस्कान ||२||

इसी भूमि ने दिया जगत को, सदा सुखद मंगलमय त्राण
वसुधा है परिवार हमारा, प्राणी मात्र का हो कल्याण
समसरस भाव संजो कर मन में, कर्मक्षेत्र में करें प्रयाण ||३||


मित्रों आपको यह गीत कैसा लगा हमें कमेंट करके अवश्य बताएं. और हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को जरूर लाइक करें एवं इंस्टाग्राम तथा ट्विटर पर फॉलो करें 🙂

1 Comment

Leave a Reply to मास्टर सूर्यसेन चटगांव कांड के नायक 18 अक्तूबर, 1893 - ज्ञान-गुण Cancel reply